इतिहास

पहले, सहरसा जिला मुंगेर और भागलपुर जिलों का हिस्सा था। 1 अप्रैल 1954 को इसे जिला बना दिया गया था। 2 अक्टूबर 1972 को इसे कोसी डिवीजन का मुख्यालय बनाया गया था, जिसमें सहरसा, पूर्णिया और कटिहार जिले शामिल थे। इसी तरह 1 दिसंबर 1972 को एक नया अनुमंडल बीरपुर बनाया गया, जिसमें 24 विकास प्रखंड यथा राघोपुर ,छातापुर , बसंतपुर और निर्मली शामिल किया गया , जो की पहले जिले के सुपौल अनुमंडल में थे। दो नए जिलों, मधेपुरा और सुपौल, सहरसा जिले से 30 अप्रैल, 1981 और 1991 को बनाए गए थे। सहरसा जिले में अब दो अनुमंडल हैं , सहरसा सदर और सिमर्री बख्तियारपुर। जिले में 10 प्रखंड और १० अंचल हैं।

अतीत में जिले का एक बड़ा हिस्सा हिमालय से निकलने वाली कई नदियों की वार्षिक बाढ़ में डूबा रहता था । पूर्व में यह उप-तराई का इलाका चावल की खेती के लिए मशहूर था।

पूर्व-ऐतिहासिक काल

सहरसा मिथिला का हिस्सा था और इतिहास में राजा जनक ( पुराणों में, सीता का पिता, जो बाद में भगवान राम की पत्नी बन गयी) के बारे में जाना जा सकता है। तांत्रिक विद्वानों और भक्तों ने यहाँ के चंडी मंदिर को विशेष महत्व दिया है, कहा जाता है कि धमारा घाट के पास कात्यायनी मंदिर और महिशी में तारा मंदिर के साथ एकयह एक समभुज त्रिभुज का निर्माण करता है। दूरदराज के स्थानों से नवरात्रि के दौरान, गांव में शक्ति की देवी की उपासना करने के लिए लोग आते हैं । मंडन मिश्रा और शंकराचार्य के बीच प्रसिद्ध शास्त्रार्थ सहरसा के महिषी में हुई थी।