मंडन भारती धाम, महिषी

“जहां तोता (शुक) और मैना शुद्ध संस्कृत में विचार कर रहे हैं कि  -क्या वेद अनन्त हैं (यानी कोई सबूत नहीं चाहिए) या फिर अन्य ग्रंथों की सहायता से सिद्ध होना चाहिए और शिष्य गायन गा रहे हैं, वही मंडन मिश्र का निवास है। पं. मिश्र मीमांसा के तत्कालीन समय के उद्भट  विद्वान कुमारिल भट्ट के छात्र थे।

यह जगह सहरसा जिला के महिषी प्रखंड  में स्थित है, जहां भारतीय दर्शन के दो दिग्गज बारह सौ साल पहले मिले थे ..ऐसा कहा जाता है कि शंकराचार्य और स्थानीय विद्वान मंडन मिश्र के बीच एक शास्त्रार्थ का आयोजन किया गया था। मंडन मिश्रा की पत्नी भारती, जो एक महान विदुषी  भी थी, को शास्त्रार्थ के न्यायाधीश के रूप में नामित किया गया था।

मंडन-भारती-धाम-महिषी

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

सहरसा के पास कोई हवाई अड्डा नहीं है निकटतम हवाई अड्डा पटना हवाई अड्डा है जो कि २०१ किमी दूर है.

ट्रेन द्वारा

आप आसानी से देश के अन्य प्रमुख शहरों से सहरसा को नियमित ट्रेन पा सकते हैं। रेलवे स्टेशन: सहरसा जंक्शन (एसएचसी)

सड़क के द्वारा

देश के अन्य प्रमुख शहरों से सहरसा बस स्टैंड तक नियमित बसें हैं. जहाँ से महिषी १८ किमी कि दूरी पर है.